blogid : 317 postid : 618939

अब स्काइप, व्हाट्सएप और वाइबर पर चली तलवार

Posted On: 4 Oct, 2013 टेक्नोलोजी टी टी में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

skypeतथाकथित लोकतांत्रिक देश पाकिस्तान में विचार अभिव्यक्ति जैसे मौलिक सिद्धांत का हनन तो होता ही रहता है लेकिन किसे पता था यह सिलसिला अब एक-दूसरे के साथ बात करने और गुपचुप तरीके से भी अपने विचारों को सांझा करने पर बैन लग जाएगा. हाल ही में पकिस्तान सरकार ने अपने एक फैसले में आधिकारिक तौर पर पाकिस्तान के सिंध प्रांत में स्काइप, व्हाट्सएप और वाइबर जैसी ऑनलाइन मेसेजिंग साइट्स के प्रयोग पर बैन लगा दी है. यह रोक करीब तीन माह तक चलेगी और उसके बाद यह निर्णय लिया जाएगा कि क्या अब इस रोक को हटाया जाए या नहीं. अधिकारियों का कहना है कि सुरक्षा इंतजामों की वजह से वाइबर, स्काइप और व्हाट्सएप पर रोक लगाई गई है.



दिवाली तोहफा देने के मूड में है सैमसंग


सिंध के मुख्यमंत्री सिंध कैम अली शाह के नेतृत्व में एक सभा आयोजित की गई जिसमें प्रांत में कानून व्यवस्था के बारे में जिक्र किया गया. इस सभा में यह बात सामने आई कि व्हाट्सएप, वाइबर और स्काइप पर अपने विचारों की अभिव्यक्ति कर, एक-दूसरे के साथ बात कर लोग प्रांत की व्यवस्था को प्रभावित कर रहे हैं इसीलिए कुछ समय के लिए इन सभी पर रोक लगनी चाहिए.


सैमसंग ने उतारा ‘सोने’ का फोन


इस मीटिंग के बाद प्रांत के सूचना मंत्री शरजील मेमन ने उपरोक्त सभी मेसेजिंग साइटों पर बैन की घोषणा कर दी. मेमन का कहना था कि आतंकवादी और अन्य असामाजिक तत्व क्षेत्र में हलचल पैदा करने के लिए इन्हीं नेटवर्कों का प्रयोग करते हैं इसीलिए इनपर बैन लगना बेहद जरूरी है.


वैसे हमें लगता है व्हाट्सएप, वाइबर और स्काइप पर प्रतिबंध लगाने से बेहतर होता अगर सुरक्षा इंतजामों पर ज्यादा ध्यान दिया जाता और आतंकवादी गतिविधियों पर लगाम लगाई जाती.


ब्लैकबेरी ने चली शातिर चाल

‘फनबुक’ के बाद अब ‘कैनवस टैबलेट’ की बारी





Tags:                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

310 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Philinda के द्वारा
May 28, 2016

Nos problemas que alguns apontam como se fossem respeitante apenas à ditadura tem de compreender que já existia um Portugal assim antes da ditadura, como existe um Portugal assim depois da ditadura. É o fado pogªsruÃtuCorrecto. Os cantores do costume é pena que não se lembrem da Formiga Branca – criada pelo governo republicano e democrático – quando cantam as cantigas do costume sobre a PIDE/DGS.A Ditadura não inventou nada que os democráticos não tivessem inventado antes a nível de repressão.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran